स्वामी श्री ज्ञानानंद जी महाराज

swami gyananand ji maharaj

 

राष्ट्र हमारी अस्मिता है, राष्ट्र हमारी आस्थ है, राष्ट्र-गौरव में ही हमारा गौरव है - ऐसा भाव प्रत्येक
राष्ट्रवासी में होना ही चाहिए । वस्तुत: यही भाव ही राष्ट्र के वास्तविक उत्थान को सबल सम्बल बनता
है । हार्दिक प्रसन्नता है कि राष्ट्रीय अस्मिता के प्रति सदैव जागरूक एवं राष्ट्र की सांस्कृतिक एकता के
प्रति संकल्पित संस्था "निफा" विभिन्न आयामों के माध्यम से राष्ट्र वासियों तथा विशेष रूप से युवाओं में
ऐसा ही राष्ट्र गौरव जगाने का सराहनीय प्रयास कर रही है । विगत अनेक वर्षोंसे अनेक अनूठे
सेवा-सद्भावना प्रयासों, युवाओं की सुवा चेतना एवं मानवीय संवेदनाओं, मानवीय मूल्यों के साथ जोड़ने
वाले कई विराट प्रकल्पों में गिनीज़ एवं अन्य विश्व रिकार्ड बनाने का गौरव संस्था ने प्राप्त किया है ।
अनेक वर्षों से प्रिय प्रितपाल सिंह पन्नू के कुशल मार्गदर्शन में चल रहे निफा प्रकल्पों को निकट से देखने
समझने का अवसर बना । 'कथनी को करनी' का रूप देने की व्यवहारिकता मूलत: भागवत गीत को ही
सार प्रेरणा है, जो निफा का गौरव है ।

इस वर्ष जिस संकल्प के साथ निफा ने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का हारमनी 2017 युवा महोत्सव मनाने का
निश्चय किया है, वह वास्तव में अदभूत है । इसके प्रारम्भिक चरण क्री झलक इसी के विराट स्वरूप और
लक्ष्य को निर्देशित करती है, जिसमें 29 युवा देश के 29 प्रांतों में "भारत एक यात्रा' जो नाम से राष्ट्र के सांस्कृतिक एकत्व क्री ध्वजा फहराकर आए हैं ।

यह आयोजन न केवल भारत के कोने कोने अपितु समूचे विश्व में भारत की सांस्कृतिक दिव्यता क्रो
गौरवान्वित करने वाला सिद्ध हो - समूचे "जीओ गीता' एवं 'श्री कृष्ण कृपा' परिवार की हार्दिक
सद्भावना - सुभेच्छा! जय श्री कृष्ण

म.मं.गीता मनीषी स्वामी श्री ज्ञानानंद जी महाराज